Pages

Saturday, 6 August 2011

सिमोन...


नारी पुरुष को आदर्श का सृजनकर्तो तभी बना सकती है,जब उसके सम्बंध पुरुष के साथ नकारात्मक हों.
नकारात्मक सम्बंध पुरुष को असीमित बना देता है,जबकि सकारात्मक सम्बंध उसे सीमित कर देता है.
नारी तब तक ही आवश्यक है, जब तक वह विचार के रूप मे रहती है....
Post a Comment