Pages

Monday, 6 August 2012

एक दोस्त के उदास होने पर

एक दोस्त क्यूँ उदास है
मैं नहीं जानता था
पर मैं उदासी को जानता था ।

एक दोस्त सब दोस्तों जैसा नहीं था
पर उसकी उदासी
सब उदासियों जैसी थी ।

एक दोस्त के बगल में
जब खड़ा हो गया मैं
तो वह पिघलने लगा,
वह अपने पिघलने को नहीं जानता था
पर मेरा बगल में खड़ा होना
उसे अच्छा लग रहा था ।

मेरे लिए
उसके उदास होने का मतलब
पूरी दुनिया उदास है से था.
कि सबकी दुनिया
मेरी दुनिया नहीं थी,
कि वह दोस्त
सबका दोस्त नहीं था.
जैसे मेरी दुनिया
सबकी दुनिया नहीं थी ।

मेरा दोस्त उदास था का मतलब
सबके दोस्त उदास थे नहीं था,


और सवाल यह था भी नहीं
कि उदास कौन है,
लेकिन यह उदासी
दुनिया पर एक सवाल थी ।
Post a Comment